परिचय

इंडियन सेंटर फ़ार इस्लामिक फ़ाइनांस (ICIF) संस्था प्रचलित पारम्परिक व्यवस्था के मुक़ाबले में इस्लामिक इकानोमी और फ़ाइनेंशियल सिस्टम को विकल्प के रूप में पेश करने का प्रयास कर रही हैए जो कि स्वतन्त्र व्यापार और नियनित्रत अर्थव्यवस्था पर आधारित है। यह एक ओर तो जनता में इस बात की जागरूकता लाने का प्रयास है कि इस्लामिक अर्थव्यवस्था किस प्रकार मानवतावादी हैए जो कि नैतिकता पर आधारित है और समाज के सभी वर्गों   विशेष रूप से सीमान्तए उपेक्षित और असंगठित वर्गों एवं क्षेत्रोंद्ध के लिए लाभकारी है। दूसरी ओर यह इस मैदान में काम करनेवाली संस्थाओं और व्यकितयों के कामों को पारम्परिक बैंकिंग के साथ इस्लामिक बैंकिंग को स्वीकार्य बनाने के लिए नियामकों (Regulator)  व्यापारियों बैंकरों और राजनेताओं के सामने प्रस्तुत करने का नेटवर्क है। इन सभी उददेश्यों को पूरा करने के लिए (ICIF) ने बहुत.सी मीटिंगेंए सेमिनार वर्कशाप और इंटरेकिटव सत्र और सभाएँ आयोजित की हैं और जनता में जागरूकता लाने के लिए उदु के अतिरिक्त अंग्रेज़ी तथा हिन्दी में बहुत.से रिसर्च पेपर और डाक्यूमेंटस प्रकाशित किए हैं। संस्था की यह महत्वाकांक्षी योजना (Ambition Plan) है कि इस सम्बन्ध में ऐसे विशेषज्ञ तैयार किए जाएँ जो इस्लामी शरीअत में दक्ष ;म्गचमतजद्ध हों और इसी के साथ माडर्न बैंकिंग और फ़ाइनांस में भी दक्षता रखते हों।

सर्वाधिकार ICIF (Indian Center for Islamic Finance), क पास सुरक्षित हैं। Powered by C9 SOFT